इस कायनाती शामियाने के तले
तितर-बितर हुई
छलकती किरणों के घेरे में
खड़ी थी वो

ना राह ढूँढने की चाह
ना उससे भटकने की
ना की कारवाँ से रुकने की इल्तजा
ना कोशिश उससे बिछड़ने की

दिल्ली का दलाल बन गया हूँ
गरीब का निवाला ना सही
अमीर की इज्ज़त ना सही
चोर फिर भी हूँ
टूटे दिल का मलाल बन गया हूँ
दिल्ली का दलाल बन गया हूँ

सब्ज़ वादियों पर फैली चिलमिली धूप
मैं हूँ

सुर्ख आखों की हदों पर बिखरता काजल
भी मैं ही हूँ

बेज़ुबाँ वो हुई
सहम मैं गया
खामोश उनकी चौखट
सन्नाटा मेरे यहाँ
दर्द उनका छलका
धड़कन मेरी रवां

मिलने को दिल बेताब है
पर आप शराफत पे अमादा हैं
तक़ल्लुफ़ ना कीजिये तख्तपोश पे बैठाने का
अब तो खिड़की फांद कर ही आने का इरादा है

नज़ाकत नूर की
नज़्म पुखराज की
पोशीदगी कम्बख्त उम्र की
मगर नफासत हमारे इंतज़ार की