उम्र का तकाज़ा किये नहीं होता
आशिक़ के जनाज़े में कोई नहीं रोता
कब्र पर चादर चढ़ा कहें – –
इंसान अच्छा था
पर साला इश्क़ज़ादा फिर भी कच्चा था

है रात की साज़िश पुरानी
मुझे दिखती है इसमें नूर की शैतानी
उपर से चाँद करे आना-कानी
म़ैं बादल, और ऐसी है मेरी कहानी

मुरीद का इश्क़ अगर सच्चा है
तो नशा भी माफ है

‘गर वो इश्क़ नहीं, बंदगी है
तो काफ़िर का दिल भी सॉफ है

इंकलाब की धधकती लू
कभी-कभी
ऐ.सी. ऑफिस क्यूबिकल के मुहाने पर
सरकते हुए
कनपट्टी के नीचे लगती है
दिल को रवानगी
और आँख को शैतानी चमक से भर देती है

छोड़ना सीख लिया है
रंगरेज़ ने रंगों को निचोड़ना सीख लिया है