1 minutes read

वोह थे तो इक रेत की लकीर
पर गुमनाम हवा उन्हें याद रखेगी

— पुखी उर्फ़ पाखी

#SafdarHashmi

12th April, 2020