1 minutes read

सोच रहा है राहगीर
किस तरफ का है ये मोड़?
इक शहर तो है नज़र में
जिसके बाशिंदे गए छोड़

#LockDown

— पुखी उर्फ़ पाखी

12th April, 2020