1 minutes read

इतनी बड़ी क़ायनात
हमारा शामियाना कितना छोटा
दौड़ तो है जन्नत की
पर दुनिया के लिए तू है खोटा

— पुखी उर्फ़ पाखी

17th June, 2020