1 minutes read

दाने चुगता परिंदा
जैसे पल गिन रहा है
असीम नीला आसमां
जैसे वक़्त का पैमाना हो

— पुखी उर्फ़ पाखी

19th June, 2020