है रात की साज़िश पुरानी
मुझे दिखती है इसमें नूर की शैतानी
उपर से चाँद करे आना-कानी
म़ैं बादल, और ऐसी है मेरी कहानी