मुरीद का इश्क़ अगर सच्चा है
तो नशा भी माफ है

‘गर वो इश्क़ नहीं, बंदगी है
तो काफ़िर का दिल भी सॉफ है