1 minutes read

इंकलाब की धधकती लू
कभी-कभी
ऐ.सी. ऑफिस क्यूबिकल के मुहाने पर
सरकते हुए
कनपट्टी के नीचे लगती है
दिल को रवानगी
और आँख को शैतानी चमक से भर देती है