अपने ही मल से गंदे किए बिस्तर में रहते हैं सोए
जब तक न बोले अरुंधति रॉय