1 minutes read

सब्ज़ वादियों पर फैली चिलमिली धूप
मैं हूँ

सुर्ख आखों की हदों पर बिखरता काजल
भी मैं ही हूँ