1 minutes read

मिलने को दिल बेताब है
पर आप शराफत पे अमादा हैं
तक़ल्लुफ़ ना कीजिये तख्तपोश पे बैठाने का
अब तो खिड़की फांद कर ही आने का इरादा है