1 minutes read

माना के तेरी कवायत का मकसद अब कुछ और है
ख्वाब, और उसमें तेरा आना
इस पर भी क्या चला किसी का ज़ोर है?