1 minutes read

नज़ाकत नूर की
नज़्म पुखराज की
पोशीदगी कम्बख्त उम्र की
मगर नफासत हमारे इंतज़ार की